1 पञ्चगव्य चिकित्सा

Posted on Posted in Uncategorized

पञ्चगव्य चिकित्सा 

१. सिरदर्द में होने पर गाय के दूध में सोंठ घिसकर उसका लेप मस्तक पर करें ।इससे दर्द में अत्यन्त लाभ होगा । 
२. थकावट होने पर थके हुए मनुष्य को एक गिलास गाय का दूध पिलाने से उसकी थकावट तुरन्त दूर हो जायेगी । 


३. मूत्रावरोध यानि पेशाब रूक जाने से पेट में वायु बढ़ जाये ,तो गाय के आधा गिलास दूध में आधा गिलास पानी डालकर पिलाना चाहिए । 


४. हिचकी बार- बार आर ही हो ,तो गाय का गर्म – गर्म दूध पीलायें । 


५. पाण्डुरोग ,क्षयरोग ,और संग्रहणी में लोहे बर्तन में गरम किया हूआ दूध सात दिन तक पिलाएें और हल्का सुपाच्य भोजन करायें । 


६. चेचक अथवा छोटी माता के कारण बालक को जो बूखार। हो ,तो तुरन्त दूहे हुए ( धारोष्ण) दूध में थोड़ा -सा घी और मिश्री मिलाकर पीलायें । 


७. रक्तपित में २०० मिली लीटर दूध में एक लीटर पानी डालकर गर्म करे ।जब सारा पानी जल जाय ,तब दूध को पिलाये ।दो – तीन दिन में ही बिमारी जाती रहेगी । 


८. पित्तविकार रोजाना १०० मिलीग्राम लीटर गाय के दूध में ५-७ ग्राम सोंठ का चूर्ण मिलाकर उसका मावा बनायें उस मावे में १०-१५ ग्राम पिसी हुई मिश्री मिलाकर रात को सोने से पहले ७ दिन तक खिलाए ।मावा खानें के बाद पानी न पीयें । 


९. रात्रि में सोने से पहले एक कप दूध का सेवन रक्त के नवनिर्माण में सहायक होता है ।एंव विषैले पदार्थ को निष्क्रिय करता है ।तथा प्रात:काल हल्के गर्म दूध का सेवन पाचनक्रिया को संयोजित करने में सहायता करता है । 


१०. गर्म दूध में मिश्री और कालीमिर्च मिलाकर लेने से सर्दी-जुकाम ठीक हो जाता है ।और गौदूग्ध में सबसे कम कोलेस्ट्राल (१४ग्राम /१००ग्राम ) होने के कारण मधुमेह के रोगियों को वसारहित दूध सेवन की सलाह दी जाती है । 


११. अग्निवर्धक व्रण के रोगियों के लिए दूध एक आदर्श आहार है ।५० मिलीलीटर ठण्डे दूध में एक चम्मच चने का सत्तु दो-दो घण्टे पर देने से अल्सर में शीघ्र ही लाभ हो जाता है । 


१२. गाय का धारोष्णदूध मिश्री मिलाकर पीने से मेधाशक्ति बढ़ती है ।आैर आयु बढ़ाने के लिए धारोष्णदूध पीने वाले को नमक कम मात्रा में सेवन करना चाहिए । 


१३. रक्तविकार वाले रोगी के लिए गाय का दूध श्रेयस्कर होता है ।क्योंकि दूग्ध सेवन से सात्त्विक विचार मानसिक शुद्धि एंव बौद्धिक विकास होता है । 


१४. एक कप दूध में २०० मिलीलीटर एरण्डतेल मिलाकर सेवन करने से मलविबन्ध में फ़ायदा हाता है । 


१५. साधारण कब्ज में १० मुन्नकाे को गौदूग्ध में पकाकर दूध सहित सेवन करें ।और गठिया रोग वालों को ५ ग्राम अश्वगन्धा चूर्ण मिलाकर गरम दूध के साथ सेवन करें । 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *