गोग्रास-दान का अनन्त फल

गोग्रास-दान का अनन्त फल 
                      योऽग्रं भक्तं किंचिदप्राश्य दद्याद् गोभ्यो नित्यं गोव्रती सत्यवादी।
                                 शान्तोऽलुब्धो गोसहस्रस्य पुण्यं संवत्सरेणाप्नुयात् सत्यशील:।।
                                              यदेकभक्तमश्नीयाद् दद्यादेकं गवां च यत्।
                                              दर्शवर्षाण्यनन्तानि गोव्रती गोऽनुकम्पक:।।
                                                                                                         (महाभारत, अनुशा.73। 30-31)
जो गोसेवा का व्रत लेकर प्रतिदिन भोजन से पहले गौओं को गोग्रास अर्पण करता है तथा शान्त एवं निर्लोभ होकर सदा सत्य का पालन करता रहता है, वह सत्यशील पुरुष प्रतिवर्ष एक सहस्र गोदान करने के पुण्य का भागी होता है। जो गोसेवा का व्रत लेने वाला पुरुष गौओं पर दया करता और प्रतिदिन एक समय भोजन करके एक समय का अपना भोजन गौओं को दे देता है, इस प्रकार दस वर्षों तक गोसेवा में तत्पर रहने वाले पुरुष को अनन्त सुख प्राप्त होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *