गो माताओं को घास (गो त्रृण दान)करते हैं उसका महात्म आप गो भक्तो के समक्ष प्रस्तुत करने का प्रयास करता हूँ

Posted on Posted in Uncategorized
!!जय गो माता – जय गोपाल !! 
आदरणीय गो भक्त मित्रों गो माताओं को घास (गो त्रृण दान)करते हैं उसका महात्म आप गो भक्तो के समक्ष प्रस्तुत करने का प्रयास करता हूँ — 
!!गो माता को चारा प्रदान करने की महिमा !!
घासमुष्टिं परगवे दद्यात् संवत्सरं तु यः!
अकृत्वा स्वयमाहारं व्रतं तत् सार्वकामिकम् !! (महाभारत अनु.69/12)
अर्थात- जो एक वर्ष तक प्रतिदिन स्वयं भोजन से पहले दूसरे की गाय को एक मुट्ठी घास खिलता है, उसका वह व्रत संपूर्ण कामनाओं को पूर्ण करने वाला होता है । 
तृणोदकादिसंयुक्तं यः प्रदद्यात् गवाह्निकम् !!
सोऽश्मेधसमं पुण्यं लभते नात्र संशयः ! (बृहत्पाराशरस्मृति 5/26-27)
अर्थात- जो गौओं को प्रतिदिन जल और तृणसहित भोजन प्रदान करता है, उसे अश्वमेधयज्ञ के समान पुण्य प्राप्त होता है, इसमें किंचिन्मात्र भी संदेह नहीं है ।
तीर्थस्थानेषु यत्पुण्यं यत्पुण्यं विप्रभोजने!
सर्वव्रतोपवासेषु सर्वेष्वेव तपःसु च!!
यत्पुण्यं च महादाने यत्पुण्यं हरिसेवने!
भुवः पर्यटने यत्तु वेदवाक्येषु सर्वदा!!
यत्पुण्यं सर्वयज्ञेषु दीक्षया च लभेन्नरः!
तत्पुण्यं लभते सद्यो गोभ्यो दत्वा तृणानि च !!
तीर्थस्थानों में जाने से, ब्राह्मणों को भोजन कराने से जो पुण्य प्राप्त होता है,सभी व्रत- उपवासों एवं तपस्याओं में जो पुण्य है, महादान करने में जो पुण्यं है, श्रीहरि के पूजन मेँ जो पुण्य है, वेदवाक्यों के पठन-पाठन में जो पुण्य है और समस्त यज्ञों की दीक्षा ग्रहण करने में जो पुण्य है, वे सभी पुण्य मनुष्य को केवल गायों को तृण(घास)खिलानेमात्र से तत्काल मिल जाते हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *