“गौ भक्ति का चमत्कार “
———————————
वर्तमानकाल में भौतिकता की और प्रवृत मानव यदपि गो-सेवा की महिमा को नहीं समझते, तथापि इधर जो अनुभव हुए है, उनके आधार पर गौके शरीर में सभी देवताओं का निवास 
मानना पड़ता है |

आयुर्वेदप्रवीण वैधराज लक्ष्मणसिंह जी की धर्मपत्नी श्रीमती गंगाकौर का देहावसान ५ अक्टूबर १९६० को हुआ | देहावसान के छ: मास पूर्व इन्होने वैधराज को बता दिया की यदपि शारीरिक रूप 
से मैं पूर्ण स्वास्थ्य हूँ, तथापि मेरा अंतिम समय निकट है | वैसे तो वैधराज परम धार्मिक हैं, परन्तु पत्नी की इस बात पर वे पूर्ण विश्वाश नहीं कर पाये |

मृत्यु के दो मास पूर्व श्रीमति गंगाकौर ने पुन: अपनी मृत्यु-तिथि बतलाई और स्वयं पूर्णत: हरिभक्त और गौ-सेवा में लग गयी | २३ सितम्बर ६० को किसी बात के प्रसन्ग में यही बात फिर दोहराई
गयी | मृत्यु के दो दिन पूर्व ही ॐ का पाठ चलता रहा |

निश्चित समय पर श्रीमती गंगाकौर चेतनाशून्य हो गयी | वैध जी ने कस्तुरी आदि औषधियों की सहायता से उन्हें पुन: चैतन्य-अवस्था में लाकर पुछा – ‘देवी ! योगी यतियों के लिए भी दुर्बोध 
मृत्यु के आगमन का पूर्वभास तुम्हे कैसे हुआ ?’

श्रीमति गंगाकौर ने ने उत्तर दिया -‘यह सब गौ-सेवा का प्रताप है | मुझे ऐसा आभास हो रहा है की मैं सीढ़ियों पर जा रही हूँ | कुते और कुत्तों जैसे प्राणी मुझ पर झपट रहे है और गौ-समुदाय 
घेरा बना कर मेरी रक्षा कर रहा है | एक प्राणी मुझे कह रहा है की गाय तेरी रक्षा कर रही है, इसलिए तू जा और तेरे पतिकी शंका-निवारण कर आ |’

ऐसा कह कर उन्होंने आथणी (दही ज़माने की हांडी) मंगवायी और सारा दही गौ-पुत्री (वत्सा) को खिलाने का आदेश दिया | फिर उन्होंने कहाँ की मेरी माताजी आयेंगी और विकल होकर रोयेंगी |
आप उन्हें रोने-कलपने से मना कर दीजिये और कहिये की वे ‘राम’ या ‘ॐ’ का नाम का पाठ करे |

गाय का दही खाते-खाते वे चिर-निंद्रा में लीं हो गयी |



गोसेवा के चमत्कार (सच्ची घटनाएँ), संपादक – हनुमानप्रसाद पोद्दार, पुस्तक कोड ६५१, गीताप्रेस गोरखपुर, भारत

One Reply to ““गौ भक्ति का चमत्कार “”

  1. एक पिता जो जगत पिता है ,

    संताने हम -सब उसकी सारी ,

    एक माँ जो जग की पालन हारी

    राह निहारे देख रही '' गौ माँ '' आज हमारी ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *