श्री शिव जी वृषभध्ज और पशुपति कैसे बने

Posted on Posted in Uncategorized

श्री शिव जी वृषभध्ज और पशुपति कैसे बने

एक समय सुरभी का बछड़ा माँ का दूध पी रहा था 
उसके मुख से दूध का झाग उड़कर समीप ही बैठे हुए श्री शंकर जी के मस्तक पर जा गिरा 
इससे शिव जी को क्रोध हो गया तब प्रजापति ने उनसे कहा कि प्रभु; आपके मस्तक पर यह अमृत का छींटा पड़ा है 
बछड़ों के पीने से गाय का दूध झूठा नहीं होता, जैसे अमृत का संग्रह करके चन्द्रमा उसे बरसा देता है वैसे ही रोहिणी गौएँ भी अमृत से उत्पन्न दूध को बरसाती हैं
ये गौएँ अपने दूध और घी से समस्त जगत का पोषण करेंगी सभी लोग इन गोओं के अमृतमय पवित्र दूध रूपी ऐश्वर्य की इच्छा करते हैं
इतना कहकर प्रजापति ने श्री महादेव जी को कई गौएँ और एक वृषभ दिया 
तब शिवजी ने भी प्रसन्न होकर वृषभ को अपना वाहन बनाया और अपनी ध्वजा को उसी वृषभ के चिन्ह से सुशोभित किया इसीसे उनका नाम वृषभध्वज पड़ा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *