गौ सेवा में थोङा लगा ले प्राणी ध्यान रे॥

Posted on Leave a commentPosted in Uncategorized

॥ श्री गोमाता भजन ॥ गौ सेवा में थोङा लगा ले प्राणी ध्यान रे॥ झूठी जग की माया प्रभु का ही सच्चा नाम। गौ माता की सेवा ही सबसे बढ़कर काम है। गौ माता की सेवा से खुश होते भगवान रे॥ गौ सेवा में थोङा लगा ले प्राणी ध्यान रे…. मोटर बग्घी बंगला न साथ […]

हे गोमाता, तुम्हें प्रणाम ! (भजन)

Posted on Leave a commentPosted in Uncategorized

हे गोमाता, तुम्हें प्रणाम ! मंगलदातृ हे गोमाता, हम सब करते तुम्हें प्रमाण। दूध दही देती कल्याणी, औ असंख्य हैं तेरे नाम॥ कामधेनु है तु सुरभी है, विश्वरूप तू सुख का धाम। सर्वरूप हैं तेरे जननी, तीर्थरूप रूप तू श्यामाश्याम॥ वेदों में है कीर्ति छा रही, अध्न्या भी है तेरा नाम। परमपवित्र तेजमय तू है, […]

"भजन"गोमाता की सेवा करना हर हिन्दू का कर्म है।

Posted on Leave a commentPosted in Uncategorized

गोमाता की सेवा करना हर हिन्दू का कर्म है। गोमाता की रक्षा करना हर हिन्दू का धर्म है।.धृ।. सूखे तिनके खाकर भी जो दूध सभीको देती है। शाकाहारी मूक बेचारी जो दे दो खा लेती है। बछडोंका हमें दूध पिलाती ये दिलकी कितनी नर्म है।. १।. बूढी और लाचारी गैया निशदिन काटी जाती है। जीवन […]

मारवाड़ी कविता "सुख समृद्धि छावो देश में रोको कटती गांया ने"

Posted on Leave a commentPosted in Uncategorized

जै गो माता की तर्ज: – कबुतरा की मकी बेचदे बार बार अरज करू में भारत का भाया ने । सुख समृद्धि छावो देश में रोको कटती गांया ने ।। ईतिहास भी है गवाही जद जद गांया पे वार विया । धर्म की रक्षा के खातिर ईश्वर का अवतार विया ।। जगत पिता भी बण्यो […]

भजन "याद करो दधि-माखन-प्रेमी"

Posted on Leave a commentPosted in Uncategorized

॥ श्रीसुरभ्यै नमः ॥ वन्दे धेनुमातरम् ॥ यया सर्वमिदं व्याप्तं जगत् स्थावरजंगमम्। तां धेनुं शिरसा वन्दे भूतभव्यस्य मातरम्॥ ॥याद करो दधि-माखन-प्रेमी॥ गौ, गीता, गंगा, गायत्री, मत भूलो गोपाल को, शीश झुकाओ, मातृ भूमि को भारत हृदय-विशाल को। गौ जननी सम्पूर्ण विश्व की, बतलाता इतिहास है, इसके तन में सभी देवताओं का पावन वास है। अपनी […]

"भजन"हमारी विनती सुनो भगवान

Posted on Leave a commentPosted in Uncategorized

॥श्रीसुरभ्यै नमः॥वन्दे धेनुमातरम्॥ यया सर्वमिदं व्याप्तं जगत् स्थावरजंगमम्। तां धेनुं शिरसा वन्दे भूतभव्यस्य मातरम्॥ हमारी विनती सुनो भगवान गौमाता की सेवा है बङे पुण्य का काम। मानो इसकी सेवा को तीर्थ चारों धाम॥ हमारी विनती सुनो भगवान। गौमाता की सेवा का हमें दे दिजो वरदान॥ हमारी………………………॥ सदा-सदा ही दुष्कर्मों से देकर हमको त्रान। गौमाता की […]

आ जाओ नन्द नन्दन !!भजन!!

Posted on Leave a commentPosted in Uncategorized

॥श्रीसुरभ्यै नमः॥श्रीगोभ्यः नमः॥ आ जाओ नंद नदंन मेरी गोमाता की जान बचाने,आ जाओ नंद नदंन। हे गो पालक गोपाल तुम्हारा,शत शत है अभिनंदन॥ हम करते हैं तुम्हें वंदन ॥ तुम भक्त सुदामा से मिलने को,नंगे पाँव भगे थे। और अर्जुन की रक्षा करने को,दिन और रात जगे थे। ये भूखी प्यासी गाय तुम्हारी,भटक रही है […]

गौमाता भजन

Posted on Leave a commentPosted in Uncategorized

॥ श्री सुरभ्यै नमः ॥ ॥ श्री गोमाता भजन ॥ गौ सेवा में थोङा लगा ले प्राणी ध्यान रे॥ झूठी जग की माया प्रभु का ही सच्चा नाम। गौ माता की सेवा ही सबसे बढ़कर काम है। गौ माता की सेवा से खुश होते भगवान रे॥ गौ सेवा में ……………..॥ मोटर बग्घी बंगला न साथ […]

गूंज उठी यह धरती सारी गौरक्षा के नारों से

Posted on Leave a commentPosted in Uncategorized

॥श्रीसुरभ्यै नमः॥वन्दे धेनुमातरम्॥ गुंज उठी यह धरती सारी गुंज उठी यह धरती सारी गोरक्षा के नारो से-2 जुंज पङो ऐ भारत वालो,गवों के हत्यारों से-2 कहाँ छूपे यदुवंशी सारे झट अपना मुख दिखलाओ। वीर पाण्डवों की संतों फिर मैदानों आओ। गोमाता के प्राण बचाओ, इन पापी गद्दारों से। जुंज पङो ऐ भारत वालो, गवों के […]

कविता ***गायों की सेवा करो, रोज नवाओ शीश । खुश होकर देंगी तुम्हें, वे लाखों आशीष ।।

Posted on 3 CommentsPosted in Uncategorized

गायों की सेवा करो, रोज नवाओ शीश । खुश होकर देंगी तुम्हें, वे लाखों आशीष ।। + + + बछड़े उनके जोतते, खेत और खलियान । जिनसे पैदा हो रहे, रोटी-सब्जी-धान ।। + + + घास-फूस खाकर करें, दूध, दही की रेज । इसी वजह से सज रही,मिष्ठानों की सेज ।। + + + गोबर […]