Posted on Leave a commentPosted in Uncategorized

उठो भारत के नर नारियो हुंकार भरो। गौमाता को राष्ट्र माता स्वीकार करो।।   गौहत्या का कलंक भारत के माथे से मिटाना हैं ,           पुनः राष्ट्र को विश्व गुरु बनाना है।   1966 में धर्म सम्राट करपात्रीजी महाराज के नेतृत्व में गौहत्या बंदी आंदोलन को 2016 में 50 वर्ष पुरे हो रहे हैं।उस आंदोलन […]

पंचगव्य निर्माण और फायदे

Posted on Leave a commentPosted in Uncategorized

    पंचगव्य निर्माण और फायदे     पंचगव्य का धार्मिक महत्व तो है ही साथ ही मानव जीवन के स्वास्थ के लिए भी कई गुना इसका महत्व है। पंचगव्य क्या है? पंचगव्य गाय के दूध, घी, दही, गोबर का पानी और गोमूत्र का मिश्रण है। इन पाचों चीजों को मिलाने से जो तत्व बनता है […]

किसानो की भूल गौमाता को बेचना परिणाम गौहत्या

Posted on Leave a commentPosted in Uncategorized

क्या बिना किसी कारण ही ओले किसानों की फसलों को यूँ ही मुफ्त में बर्बाद कर रहे हैं? यदि ऐसा हो रहा है तो वे भगवान पर आरोप लगाकर प्रकृति को चुनौती दे सकते हैं। बिना किसी वजह के कुछ नहीं होता है। हर चीज के पीछे एक कारण होता है, एक मकसद होता है। […]

गौ हत्यारा कोन शायद हम (किसान)

Posted on Leave a commentPosted in Uncategorized

To the first time in the History of India. आज गाय के रहस्यमय कातिलों का पर्दाफाश किया जा रहा है। प्रिय किसान भाइयों, जरा ध्यान से यह पढ़ना। अब मैं आप सबको यह समझाऊँगा कि गौ हत्या का जिम्मेदार कौन हैं, और किसको गौ हत्या का पाप लगेगा? जैसे एक आदमी की आदर्श उम्र 100 […]

भारतीय गाय का अर्थ शास्त्र

Posted on Leave a commentPosted in Uncategorized

भारतीय गाय का अर्थ शास्त्र…….. हर इंसान को ज़ीने के लिए कम से कम 3 चीजों की जरूरत है. हवा, पानी और खाना. स्वच्छ हवा रही नहीं (पेट्रोल, डीज़ल), पीने का पानी मुफ्त मिलता नहीं शुद्धता की बात तो अलग है (रासायनिक खेती, ग्लोबल वार्मिंग, गिरता पानी का स्तर), खाने में भी जहर आ चूका […]

गाँव गाँव गौरक्षा दल बनाये

Posted on Leave a commentPosted in Uncategorized

गाँव गाँव में गौ रक्षा दल बनायें ‬अगर हर शहर में 1 गौ रक्षा दल हो तो किसी की क्या मजाल जो गौ माता की तस्करी की तो छोड़ो छु भी न सकेगा ।किसी भी छोटे से शहर में जाकर देखे राजनैतिक पार्टियों के दल तो मिलेंगे लेकिन गौ रक्षा दल ढूढ़ने से भी नहीं […]